बसेड़ा के चौदह विद्यार्थी इंटरनेशनल कन्वेंशन में जाएंगे पश्चिमी बंगाल

प्रेस विज्ञप्ति बसेड़ा के चौदह विद्यार्थी इंटरनेशनल कन्वेंशन में जाएंगे पश्चिमी बंगाल बसेड़ा में स्पिक मैके हेरिटेज क्लब का गठन ...

सोमवार, 25 दिसंबर 2017

बसेड़ा में शुरू हुई संडे लाइब्रेरी

प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा में शुरू हुई संडे लाइब्रेरी
पत्र-पत्रिकाओं के संसार से अब रूबरू होंगे बसेड़ा के बच्चे

बसेड़ा (छोटी सादड़ी) 9 अक्टूबर, 2017

राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय बसेड़ा के लिए सोमवार नौ अक्टूबर का दिन एक नयी खुशी लेकर आया। स्कूल प्रधानाचार्य महेंद्र प्रताप गर्ग के अनुसार बसेड़ा हिंदी क्लब की नयी गतिविधि 'संडे लाइब्रेरी' में अब विद्यार्थी अवकाश के दिनों में स्कूल परिसर में ही पुस्तकालय का लाभ ले सकेंगे। देहाती इलाके में इस तरह की लाइब्रेरी से यहाँ के युवा देश-दुनिया की ताज़ा घटनाओं से परिचित होने के साथ ही साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं से रूबरू होंगे। इस प्रयोग की नयी बात यह है कि इस पुस्तकालय का संचालन कक्षा ग्यारह के स्कूली विद्यार्थी ही अपने स्तर पर करेंगे और समस्त प्रकार के आय-व्यय का ब्यौरा रखेंगे। हिंदी क्लब सदस्य पुष्कर आंजना और दीपक ढोली को लाइब्रेरी वोलंटियर मनोनीत किया गया है

सोमवार सुबह दस बजे इस अभियान की शुरुआत के मौके पर बसेड़ा के भामाशाह गोपाल आंजना और सक्रीय पाठक भूपेंद्र आंजना ने पुस्तकालय आकर विद्यार्थियों से संवाद किया। सामाजिक कार्यकर्ता गोपाल आंजना ने इस अवसर पर कहा कि बच्चे आगे आएं और पत्र-पत्रिकाओं का पूरा लाभ लें हमारी कोशिश रहेगी कि हम इस संडे लाइब्रेरी के कोंसेप्ट को पूरा सहयोग दें और जितनी संभव होगी आर्थिक मदद करके इसमें शामिल साहित्य की संख्या बढ़ाएंगे। मेरा मन है कि इस विद्यालय के वंचित और प्रतिभावान बच्चे जो ज़रूरतमंद हों उन्हें गोद लेने की प्रक्रिया भी दीपावली अवकाश के बाद शुरू करेंगे ताकि प्रतिभाओं को समुचित अवसर मिल सके। बसेड़ा में भामाशाहों की कमी नहीं है

उदघाटन सत्र में छात्राओं ने अतिथियों का कुमकुम तिलक लगाकर और लच्छा बांधकर अभिनन्दन किया विद्यार्थियों की तरफ से अर्जुन मेघवाल, बबली धोबी, कृष्णा मीणा और दीपक ढोली ने विचार व्यक्त कर खुशी ज़ाहिर की। वक्ताओं ने राजकीय विद्यालयों में इस तरह के प्रयोग को उत्साहवर्धक बताया और सरकारी कार्य प्रणाली पर संतोष जताया संचालन हिंदी व्याख्याता माणिक ने किया। क्लब के संयोजक माणिक ने बताया कि यह लाइब्रेरी अवकाश के दिन सुबह साढ़े नौ से साढ़े ग्यारह बजे तक पाठकों के लिए खुली रहेगी। यहाँ कोई भी पुस्तक प्रेमी अपनी तरफ से पुस्तकें भेंट कर सकेंगे। विद्यार्थी यहाँ सिलेबस से इतर सामग्री पढ़कर अपना व्यक्तित्व बना सकेंगेअब बसेड़ा के बच्चे इस तरह पुस्तक प्रेमी भामाशाह के सहयोग से जहां एक तरफ बाल भारती, चम्पक, प्लूटो, नंदन, बाल भास्कर, बालहंस, मेजिक पॉट और चकमक जैसी बाल पत्रिकाएँ पढ़ सकेंगे वहीं सहित प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी के लिए ज़रूरी प्रतियोगिता दर्पण, क्रोनोलोजी,करंट अफेअर्स, रोजगार समाचार, रोजगार सन्देश, इंडिया टुडे और आउटलुक भी पढ़ सकेंगे। वहीं साहित्यिक पत्रिकाओं के तौर पर फिलहाल आहा! ज़िंदगी, 'हंस' और 'नया ज्ञानोदय' की व्यवस्था की गयी है। संचालन हिंदी व्याख्याता माणिक ने किया। 

माणिक
संयोजक,बसेड़ा हिंदी क्लब

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें

Follow by Email