मंगलवार, 7 अगस्त 2018

बसेड़ा के बच्चों ने सीखा कथक नृत्य

प्रेस विज्ञप्ति
बसेड़ा के बच्चों ने सीखा कथक नृत्य
स्पिक मैके कार्यशाला बसेड़ा तक पहूंची

बसेड़ा(छोटीसादड़ी) 7 अगस्त, 2018

भारत अपनी संस्कति की वजह से पूरे विश्व में जाना जाता है उसमें भी खासकर हमारी संगीत और नृत्य की विरासत के कारण इसका बड़ा नाम है। मैं बहुत खुशनसीब हूँ कि मुझे कथक नृत्य के जयपुर घराने से जुड़कर देश के देहाती इलाके में कार्य करने का मौक़ा मिला है। स्पिक मैके की इन कार्यशालाओं में विद्यार्थियों से मुखातिब होकर मैं खुद को बहुत उर्जावान अनुभव करती हूँ। अपने गुरुओं की तालीम को आगे की पीढ़ी तक ले जानके के लिए की जा रही ये यात्राएं मेरी रूचि का विषय है। श्री गंगानगर राजस्थान की होकर अब दिल्ली में रहते हुए इसी विधा में शोध कार्य करने की इच्छा है

यह विचार प्रसिद्द कथक नृत्यांगना शिवालिका कटारिया ने प्रतापगढ़ की छोटी सादड़ी तहसील के बसेड़ा स्कूल में स्पिक मैके की एक नृत्य कार्यशाला के दौरान व्यक्त किए। इस राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में कथक नृत्य का यह आयोजन शास्त्रीय नृत्यों के नाम पर आगाज़ ही है। हेरिटेज क्लब ऑफ़ बसेड़ा के संयुक्त तत्वावधान में हुए आयोजन के बारे में बताते हुए स्पिक मैके के राष्ट्रीय सलाहकार जेपी भटनागर ने बताया कि कलाकारों का स्वागत और दीप प्रज्ज्वलन प्रधानाचार्य लादूराम शर्मा, हेडटीचर प्रभुदयाल कूड़ी, अध्यापिका स्मृति शर्मा, सन्डे लाइब्रेरी वोलंटियर अभिलाषा आंजना ने किया। कार्यशाला में गुरु शिवालिका ने गणेश वंदना के बाद सकोली विद्यार्थियों को मंच पर बुलाकर कथक नृत्य से जुड़ी शुरुआती आंगिक मुद्राओं का अभ्यास करवाया। तीन ताल के अभ्यास को तालबध्द ढंग से करके बच्चे बड़े खुश हुए। ग्रामीण इलाके में इस तरह का सांगीतिक आयोजन अचरज का विषय भी अनुभव हुआ। बाद में नृत्यांगना ने शिव स्तुति और अंत में एक भाव की प्रस्तुति दी जिसे सभी ने सराहा। 

प्रस्तुति का संचालन स्पिक मैके के राष्ट्रीय सलाहकार माणिक ने किया वहीं आयोजन के सूत्रधार हेरिटेज क्लब के वोलंटियर ममता मीणा, पूजा प्रजापत, पुष्कर आंजना, पवन आंजना, कारू लाल आंजना, कुलदीप टांक थे


कट्स संस्था ने बसेड़ा में किया पौधारोपण
कट्स का प्रोजेक्ट अब बसेड़ा स्कूल में भी चलेगा

बसेड़ा स्कूल में हिंदी के वरिष्ठ अध्यापक छुट्टन लाल मीणा ने बताया कि कट्स मानव विकास संस्थान चित्तौड़गढ़ द्वारा बसेड़ा स्कूल में नेचुरल खाद और कृषि के उन्नत तरीकों के प्रोत्साहन हेतु लिए एक प्रोजेक्ट में चुना है। विद्यालय में पौधशाला, किचन गार्डन और फलदार पौधों के विकास हेतु मंगलवार को कक्षा बारह के विद्यार्थियों के साथ मिलकर परिसर में ही पौधारोपण किया गया। इस अवसर पर इतिहास के व्याख्याता प्रेमाराम कुमावत सहित कट्स संस्था के कार्यकर्ता कमलेश शर्मा और उनके साथी भी मौजूद थे। 

माणिक
संयोजक,हेरिटेज क्लब ऑफ़ बसेड़ा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह ब्लॉग खोजें

Follow by Email